Socity

नासा ने किया दिल्ली की जहरीली हवा की वजह का खुलासा

नासा के वैज्ञानिको ने नए शोध में बताया है कि हरियाणा और पंजाब में पराली जलाने की वजह से देश की राजधानी दिल्ली की हवा में प्रदूषण काफी ज्यादा बढ़ गया है।

मानसून के बाद हरियाणा और पंजाब में पराली जलाने की वजह से नई दिल्ली में अक्टूबर-नवंबर माह में पीएम लेवल 2.5 तक पहुंच गया था। पंजाब व हरियाणा से आने वाली हवा में प्रदूषण का स्तर काफी ज्यादा है, जिसकी वजह से लोगों को सांस लेने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा।

शोध के अनुसार जब पराली जलाई जा रही थी तो उससे पहले हवा में प्रदूषण 50 माइक्रोग्राम प्रति क्युबिक मीटर था, जोकि बाद में बढ़कर 300 तक पहुंच गया था। 2016 में पराली जलाने के समय हर औसतन प्रदूषण का स्तर 550 ग्राम तक पहुंच गया था। इससे इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि प्रदूषण स्तर 2016 में किस स्तर तक पहुंच गया था। शोध में यह बात भी सामने आई है कि अन्य स्रोत के द्वारा प्रदूषण काफी बढ़ा है। तकरीबन 95 लाख गाड़ियों से निकलने वाले धुएं से भी नासा के शोध ने सतर्क किया है।

वैज्ञानिकों ने प्रदूषित हवा के मार्ग का भी अध्ययन किया है, जिसके लिए नेशनल ओसिअनिक एंड एटमोस्फेरिक एडमिनिस्ट्रेशन मॉल का इस्तेमाल किया गया है, जिसमे गेंहू और धान की कटाई के बाद खेत में लगाई जाने वाली आग से होने वाले प्रदूषण की जानकारी दी गई है। मानसून के बाद पीएम लेवल 2.5 तक पहुंच जाता है, जोकि 2013, 2014, 2015, 2016 में लगातार बढ़ते हुए 10,7,12,13 फीसदी तक पहुंच गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *