political

अमित शाह का ममता पर तंज, बोले- दीदी के रहते मलेरिया नहीं जाएगा, डेंगु- मलेरिया से तो उनकी दोस्ती है

नई दिल्ली | पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए चुनाव प्रचार जोरों पर हैं। बता दें कि पश्चिम बंगाल और असम में आज शाम पांच बजे पहले चरण के लिए चुनाव प्रचार थम जाएगा। ऐसे में सभी राजनीतिक पार्टियों के नेता एक दूसरे पर जमकर बयानों के तीर चला रहे हैं।  यहां के झारग्राम पहुंचे गृह मंत्री अमित शाह ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि- दीदी के रहते हुए आपको मलेरिया से छुटकारा नहीं मिलेगा।  डेंगू और मलेरिया से उनकी दोस्ती है। हमारे लिए वोट करें, हम 2 साल में बीमारियों को मिटा देंगे … एक तरफ, पीएम मोदी आदिवासी कल्याण के लिए काम कर रहे हैं, जबकि दीदी अपने भतीजे के लिए काम कर रही हैं। आप किसे चाहते हैं?

शाह ने कहा कि झारग्राम हरे भरे जंगल और लाल मिट्टी की भूमि है। आदिवासी भाइयों ने वर्षों से इस भूमि की संस्कृति संजो कर रखा है। मां, माटी मानुष का नारा देकर दीदी सत्ता में तो आई, लेकिन आपके लिए कुछ नहीं किया।
शाह ने कहा कि मैं आपके क्षेत्र की कठिनाइयों को जानता हूं, लेकिन कुछ कठिनाई ऐसी हैं जो पूरे बंगाल की है। दीदी जहां जहां घूमती हैं वहां लोगों और निर्दोष आदिवासियों को डराती हैं- खेला होबे, खेला होबे। अरे दीदी आप हमें क्या डराती हो, खेला होबे से हम डर जाएंगे क्या। दीदी आपको मालूम नहीं है, बंगाल का छोटा बच्चा भी फुटबॉल खेलता है, आपके ‘खेला होबे’ से कोई नहीं डरता।

झारग्राम में शाह ने कहा आप जंगल में से वन उपज चुनकर लाते हैं, उसका अच्छा दाम नहीं मिलता। हमने तय किया है कि हम 49 वन उपजों को समर्थन मूल्य देकर अच्छा दाम देने की शुरुआत करेंगे। पश्चिम बंगाल में आदिवासियों को प्रमाण पत्र चाहिए होता है तो पटवारी को कट मनी देना होता है, हमने तय किया है कि आदिवासियों के लिए ऑनलाइन प्रमाण पत्र की व्यवस्था करके कटमनी को खत्म करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.