political

बोकाखाट में बोले PM मोदी, असम में फिर बनेगी डबल इंजन की सरकार

नई दिल्‍ली. पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव की तरीख जैसे जैसे करीब आ रही है चुनावी जनसभाओं और रैलियों का दौर भी तेज हो गया है. विधानसभा चुनावों से पहले आज एक बार फिर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह पश्चिम बंगाल के दौरे पर हैं.अमित शाह का एक हफ्ते में आज दूसरा दौरा है. शाह आज दोपहर डेढ़ बजे पूर्व मेदिनीपुर जिले के एगरा में एक चुनावी रैली को संबोधित करेंगे. इसके बाद शाम 5.30 बजे कोलकाता में भाजपा का चुनावी घोषणापत्र भी जारी करेंगे.

बता दें कि पूर्व मेदिनीपुर जिले के एगरा में होने वाली अमित शाह की रैली में टीएमसी से बीजेपी में शामिल हुए सुवेंदु अधिकारी के पिता व टीएमसी सांसद शिशिर अधिकारी और उनके भाई दिब्येंदु अधिकारी भी मौजूद रहेंगे. तृणमूल कांग्रेस ने जिस तरह से अपने घोषणापत्र में लोकलुभावन वादे किए हैं, उसके बाद हर किसी की नजर बीजेपी के घोषणापत्र पर टिकी हुई है. बीजेपी सूत्रों के मुताबिक ममता बनर्जी को सत्‍ता से हटाने के लिए बीजेपी ने कई रणनीति तैयार की है. इसके साथ ही मतदाताओं को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए भी बीजेपी अपने चुनावी घोषणापत्र में कई बड़े वादे करे सकती है.

ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि बीजेपी के चुनावी घोषणापत्र में अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) को लेकर बड़ी घोषणा की जा सकती है. चर्चा तो यहां तक है कि पार्टी राज्य की कुछ जातियों को ओबीसी में शामिल करने का भी ऐलान कर सकती है. इसके साथ ही पश्चिम बंगाल में रोजगार को बड़ा मुद्दा बनाते हुए कई वादे किए जा सकते हैं. इसके साथ ही भ्रष्‍टाचार मुक्‍त सरकार का वादा भी किया जा सकता है.

बता दें कि बीजेपी ने घोषणापत्र जारी करने से पहले राज्‍य में बड़ा अभियान चलाया था और लोगों से राय मांगी थी कि वह राज्‍य में किस तरह का बदलाव चाहते हैं. बीजेपी की राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा ने खुद इस अभियान की शुरुआत की थी. बीजेपी ने राज्‍य के लोगों की मांग को देखते हुए ही अपना चुनावी घोषणापत्र तैयार किया है. बता दें कि बंगाल में आठ चरणों में विधानसभा चुनाव होने है. पहले चरण के चुनाव के लिए 27 मार्च को मतदान होगा. इस बार के चुनाव में बीजेपी और टीएमसी के बीच कड़ी टक्‍कर देखने को मिल रही है.
कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने असम विधानसभा चुनाव के लिए शनिवार को अपनी पार्टी का घोषणापत्र जारी करते हुए ‘पांच गारंटी’ दी. इनमें प्रत्येक गृहिणी को हर महीने 2,000 रुपये देने और संशोधित नागरिकता अधिनियम (सीएए) को निष्प्रभावी करने के लिए कानून लाना शामिल है. पार्टी का घोषणापत्र जारी करते हुए राहुल ने कहा कि उनकी पार्टी असम के विचार (आईडिया) की हिफाजत करेगी, जिस पर भाजपा और आरएसएस (राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ) हमले कर रही है.केरल में भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए को बड़ा झटका लगा है. 6 अप्रैल को होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले थालास्सेरी, गुरुवयूर और देवीकुलम निर्वाचन क्षेत्रों के उनके उम्मीदवारों के नामांकन पत्रों को जांच अधिकारियों ने खारिज कर दिया है. जिन उम्‍मीदवारों का नामांकन रद्द किया गया है, उनमें प्रदेश की दो विधानसभा सीटों पर भाजपा के उम्मीदवार और एक सीट पर उसकी सहयोगी पार्टी अन्नाद्रमुक के उम्मीदवार शामिल हैं. पूर्व मेदिनीपुर जिले के एगरा में आज होने वाली अमित शाह की रैली में टीएमसी से बीजेपी में शामिल हुए सुवेंदु अधिकारी के पिता व टीएमसी सांसद सिसिर अधिकारी और उनके भाई दिब्येंदु अधिकारी भी मौजूद रहेंगे. सिसिर अधिकारी के भाजपा में शामिल होने की अटकलों को बल इसलिए भी मिल रहा है क्योंकि टीएमसी ने उन्हें पहले ही प्रतिष्ठित दिघा-शंकरपुर विकास परिषद के चेयरमैन और टीएमसी जिला इकाई के अध्यक्ष पद से हटा दिया है.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज दोपहर बांकुरा यूनिवर्सिटी के पास एक रैली को संबोधित करेंगे. इस जिले में कुल 12 विधानसभाएं हैं. 2019 लोकसभा चुनाव में बीजेपी उम्मीदवार ने सभी 12 विधानसभाओं पर लीड हासिल की थी. 2016 विधानसभा चुनाव में 7 विधानसभाएं टीएमसी के कब्जे में थी, जबकि 5 कांग्रेस और लेफ्ट के कब्जे में थी. 12 विधानसभाओ में से 3 विधानसभा जंगल महल के इलाके में आता है. पश्चिम बंगाल में होने वाले आठ चरणों के विधानसभा चुनाव से पहले 23 मार्च को चुनाव आयोग की टीम बंगाल दौरे पर जाएगी. इस मौके पर मुख्य चुनाव आयुक्त और दोनों चुनाव आयुक्त बंगाल में मौजूद होंगे. इस दौरान आयोग बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनावों की तैयारियों का जायजा लेगा. मतदान की व्यवस्था से लेकर प्रशासनिक व्यवस्था पर चुनाव आयोग रिपोर्ट लेगा. हालांकि पश्चिम बंगाल से पहले 22 मार्च में चुनाव आयोग के अधिकारी असम के दौरे पर जाएंगे. असम के बोकाखाट में जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि बोकाघाट समेत ये पूरा इलाका शक्ति के स्थल के रूप में जाना जाता है. इन सभी स्थानों पर मैंने माताओं और बहनों से परिवर्तन का आग्रह किया था. इसी कारण यहां बीजेपी की सरकार बनी.
पीएम मोदी ने कहा, कांग्रेस के राज में सवाल था कि दशकों से अशांत असम में कभी शांति आएगी क्या? NDA के काल में असम में शांति और स्थिरता दोनों आई है. कोरोना काल के दौरान सरकार ने महिलाओं के खाते में पैसे भेजे और एलपीजी सिलेंडर की व्यवस्था की, ताकि आपको घर चलाने में दिक्कत ना हो. असम के बोकाखाट में जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा, अब ये तय हो गया है-असम में दूसरी बार भाजपा सरकार बनेगी. असम में दूसरी बार NDA सरकार बनेगी और असम में दूसरी बार डबल इंजन की सरकार बनेगी.
असम के बोकाखाट में जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा, जब कांग्रेस केंद्र में थी तब असम में भी कांग्रेस की सरकार थी उस समय असम के लोगों की तरफ देखा नहीं जाता था. अब जब से केंद्र में बीजेपी की सरकार आई है और असम में एनडीए की सरकार बनी है तब से विकास भी डबल होगया है. कांग्रेस की आदत है गरीबों से झूठ बोलना है और गरीबों को लूटना है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.