National/International

जब कलेक्टर ने जवान से कहा- कोई मेरी बात न सुने तो गोली मार देना.

समय दर्शन:- ईवीएम की सुरक्षा को लेकर उठे सवालों के बीच रीवा कलेक्टर प्रीति मैथिल का विवादित वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। इसमें वे कांग्रेस प्रत्याशियों की मौजूदगी में सशस्त्र बल के जवान को निर्देश देती नजर आ रही हैं कि कोई मेरी बात न सुने तो गोली मार देना।

रीवा कलेक्टर का वायरल वीडियो शनिवार का है, जब वे कांग्रेस प्रत्याशी रीवा से अभय मिश्रा, गुढ़ से सुन्दरलाल तिवारी व सेमरिया से त्रियुगीनारायण शुक्ल से चर्चा कर रही थीं। दरअसल, ये सब ईवीएम में छेड़छाड़ की आशंका को लेकर मिलने पहुंचे थे। बैठक के बाद जब सब बाहर निकल रहे थे, उसी दौरान यह वीडियो बनाया गया है।

वायरल वीडियो में यह..
वायरल वीडियो में कलेक्टर कांग्रेस नेताओं से कह रही हैं कि इस चुनाव में इजूल-फिजूल के चक्कर में पड़कर मैं अपनी साख थोड़ी न खराब करूंगी। मैं छोटे-मोटे विवाद में नहीं पड़ना चाहती। 10 साल हो गए हैं और 25 साल की नौकरी है। मुझे आगे जाकर प्रिंसिपल सेक्रेटरी, चीफ सेक्रेटरी बनना है। ये मेरे लिए कुछ नहीं है। यहां कोई आदमी आ नहीं सकता। आप भरोसा करें। ईवीएम के आसपास कोई न भटके, (सुरक्षाकर्मी से बोलीं) गोली मार देना, अगर कोई मेरी बात न सुने। इस मामले में आरटीआई एक्टिविस्ट अजय दुबे ने चुनाव आयोग से कलेक्टर के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है।

लिखित में कोई अादेश नहीं दिया
ईवीएम की सुरक्षा के सख्त इंतजाम हैं। सुरक्षाबलों को नियम पालन करने के सख्त निर्देश दिए हैं। लिखित में गोली मारने जैसे कोई आदेश नहीं दिए हैं। हालांकि, सुरक्षा बल ईवीएम की सुरक्षा के लिए हर वाजिब कदम उठा सकते हैं।
-प्रीति मैथिल, कलेक्टर, रीवा

चुनाव चिह्न हल्का और ईवीएम में तकनीकी खराबी की शिकायत
विधानसभा चुनाव-2018 में चुनाव चिह्न हल्का छपवाने और ईवीएम की तकनीकी खराबी के कारण मतदान प्रभावित होने की शिकायत दो प्रत्याशियों ने की है। दक्षिण से सपाक्स पार्टी की प्रत्याशी अनुपमा सिंह ने निर्वाचन आयोग और मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी को शिकायत की है कि बैलेट पेपर पर उनका चुनाव चिह्न जूता हल्का छापा गया जो मतदाता को दिख ही नहीं पाया, वहीं ग्वालियर से राष्ट्रवादी पार्टी प्रत्याशी चंद्रहास सिंह तोमर ने मतदान के दिन कई जगह ईवीएम में तकनीकी खराबी के कारण पुनर्मतदान की मांग की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.