National/International

विजय दिवस पर करगिल के शहीदों को नमन

देश आज करगिल के शहीदों को दे रहा है श्रद्धाजलि, आज ही के दिन हमारे शूरवीरों ने कारगिल की  पहाड़ी पर फहराया था तिरंगा, राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने जवानों की वीरता को किया नमन, द्रास में भी दी गयी श्रद्धांजलि, अमर जवान ज्योति पर रक्षा मंत्री ने किया शहीदों को नमन.

26 जुलाई यानी वो तारीख जिस दिन हमारे वीर योद्धाओं ने कारगिल की सफेद बर्फ से ढकी पहाड़ी पर तिरंगा फहराया था।  तब से लेकर हम साल 26 जुलाई को करगिल विजय दिवस के तौर पर मनता हैं ।  राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द ने का‍रगिल विजय दिवस पर शहीदों को नमन किया। ट्वीटपर उऩ्होंने लिखा – का‍रगिल विजय दिवस पर, प्रत्येक भारतीय हमारी सशस्त्र  सेनाओं के प्रयासों व पराक्रम की सराहना करता है। सभी देशवासी कारगिल के शहीदों के परम बलिदान को नमन करते हैं। हम उनके परिवार-जनों के प्रति सदैव ऋणी रहेंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी करगिल युद्ध में भारतीय सेना के साहस को नमन किया है। ट्वीटर पर उन्होंने लिखा – कारगिल विजय दिवस पर कृतज्ञ राष्ट्र ऑपरेशन विजय के दौरान देश की सेवा करने वाले सभी लोगों को श्रद्धांजलि अर्पित करता है। हमारे बहादुर सैनिकों ने भारत की सुरक्षा को सुनिश्चित किया और शांति के माहौल को बिगाड़ने की कोशिश करने वालों को मुंहतोड़ जवाब दिया।

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने अमर जवान ज्योति जाकर वीर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की और उनके शौर्य की सराहना की। संसद में आज करगिल युद्ध में शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी गई। सदस्यों ने शहीदों के शौर्य और पराक्रम को याद किया।

करगिल की विजय का जश्म मनाने और शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए उसी  जम्मू-कश्मीर में द्रास युद्ध स्मारक कार्यक्रम का आयोजन हुआ  यहां पर लोगों ने नम आंखों से शहीदों को श्रद्धांजलि दी । इस मौके पर उत्तरी कमान के जीओसी रणवीर सिंह ने कहा कि भारतीय सेना सीमा पर पैदा हुए किसी भी चुनौती से निपटने में सक्षम है।

दिल्ली में बीजेपी मुख्यालय पर शहीदों की याद में एक कार्यक्रम का आयोजन हुआ । इस मौके पर करगिल के शहीदों की वीरता का गुणगान हुआ।

साल 1999 की गर्मियों में पाकिस्तानी सेना ने चुपके से नियत्रंण रेखा पार कर राष्ट्रीय राजमार्ग वन  से लगती टाईगर हिल, चोटी पाइंट 4875, पाइंट 4590, तोलोलिंग पहाड़ी, पाइंट 5140 , और बटालिक की जुबेर पहाड़ियों पर कब्जा कर लिया। पाकिस्तानी स्पेशल सर्विस ग्रुप नॉर्दन लाईफ इन्फेन्ट्री के करीब 5 हजार सैनिक घुसपैठिये के भेष में भारतीय चौकियों पर जमे हुए थे। भारतीय सेना ने दुश्मनों को मार भगाने के लिए ऑपरेशन विजय को शुरू किया।

भारतीय तोपों ने ऊँची पहाड़ियों पर बैठे दुश्मनों को अपने धमाकों से घुटने टेकने के लिए मजबूर कर दिया।  आखिरकार  26 जुलाई 1999 को ही भारतीय सेना ने पाकिस्तानी सैनिकों को खदेड कर करगिल में तिरंगा फहराया था  जिस शौर्य और बहादुरी से भारतीय जांबाजों ने अपनी जान न्यौछावर कर दुश्मन के छक्के छुडा दिए देश उस पर गर्व महसूस करता है  और उनकी शहादत को नमन करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.