National/International

रवांडा में जल्द खुलेगा भारतीय उच्चायोग: पीएम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रवांडा में जल्द ही भारतीय उच्चायोग के खुलने का किया ऐलान। किगाली में विशेष आर्थिक क्षेत्र और तीन कृषि परियोजनाओं के लिए 200 मिलियन डॉलर की आर्थिक सहायता की घोषणा। दोनों देशों के बीच हुए 8 समझौता पत्रों पर हुए हस्ताक्षर। पीएम ने कहा, भारत और रवांडा के बीच बेहद पुराना है संबंध।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तीन देशों की अफ्रीकी देशों की यात्रा के तहत रवांडा में हैं। कल रवांडा की राजधानी कगाई में रवांडा के साथ प्रतिनिधिमण्डल स्तर की वार्ता के बाद दोनों देशों के बीच रक्षा, कृषि, डेयरी,चमड़ा उद्योग और विभिन्न क्षेत्र में क्षमता विकास को लेकर समझौते हुए।

पीएम नरेंद्र मोदी ने रवांडा के किगाली में भारतीय समुदाय को संबोधित किया। लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि दुनियाभर में भारत के पासपोर्ट की ताकत बढ़ी है। पीएम ने कहा कि भारत पारदर्शी व्यवस्था के कारण काफी तेज गति से प्रगति कर रहा है। उन्होंने कहा कि भारत आधुनिकता के साथ आगे बढ़ते हुए पहली बार फ्रांस को पीछे छोड़ आगे निकला है। साथ ही खेल क्षेत्र में भी इसका असर दिखाई दे रहा है। भारतीय समुदाय के लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने विदेश में बसे सभी भारतीयों को राष्ट्रदूत करार दिया। उन्होंने उत्तर प्रदेश के वाराणसी में अगले साल जनवरी में आयोजित होने वाले प्रवासी भारतीय दिवस में भाग लेने की अपील की। भारतीय समुदाय के लोगों ने भी पीएम मोदी के निमंत्रण को स्वीकार करते हुए देश के तेज गति से बढ़ते विकास की सराहना की। लोगों ने प्रधानमंत्री के रवांडा में उच्चायोग खोलने के फैसले का स्वागत किया।

तीन अफ्रीकी देशों की यात्रा पर रवाना हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दूसरे चरण में युगांडा पहुंचेगे। अपनी यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वहां की संसद को संबोधित करेंगे। ऐसा करने वाले वे देश के पहले प्रधानमंत्री होंगे। पीएम मोदी भारतीय समुदाय के लोगों को भी संबोधित करेंगे। मंत्रोच्चार के बीच योग का अभ्यास करते ये लोग युगांडा में भारत की सदियों विरासत की परंपरा को अपना रहे हैं। ये दृश्य आज के समय में इसलिए भी खास हो गए हैं क्योंकि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी तीन अफ्रीकी देशों की यात्रा के दूसरे चरण में युगांडा पहुंचेंगे। यह बीस सालों में किसी भारतीय प्रधानमंत्री की पहली यात्रा होगी। इस दौरान पीएम मोदी युगांडा के राष्ट्रपति मुसेवेनी से मुलाकात करने के साथ प्रतिनिधिमंडल स्तर की बातचीत भी करेंगे। इस दौरान दोनों देशों के बीच कई अहम समझौते होंगे जो आना वाले समय में दोनों देशों के लिए प्रगति के रास्ते खोल देंगे।

अपनी यात्रा के दौरान पीएम मोदी वहां की संसद को भी संबोधित करेंगे। ऐसा करने वाले वे देश के पहले प्रधानमंत्री होंगे। पीएम मोदी युगांडा में भारतीय समुदाय के लोगों को भी संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री की यात्रा को लेकर वहां रह रहे भारतीयों में ख़ासा उत्साह देखने को मिल रहा है। भारत के साथ  पिछले कुछ सालों में अफ्रीकी देशों के साथ विभिन्न क्षेत्रों में हुई भागीदारी से रिश्तों में मजबूती आई है। भारत की विदेश नीति में अफ्रीका की सर्वोच्च प्राथमिकता रही है। प्रधानमंत्री की रवांडा, युगांडा और दक्षिण अफ्रीका की यात्रा अफ्रीकी महाद्वीप में हमारे संबंधों को और मजबूत करेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.