National/International

तीन तलाक को क्रिमिनल ऑफेंस के दायरे में लाने के लिए सरकार ने लोकसभा में किया बिल पेश

नई दिल्ली: तीन तलाक को क्रिमिनल ऑफेंस के दायरे में लाने के लिए सरकार ने लोकसभा में बिल पेश कर दिया. जिसे ‘द मुस्लिम वुमन प्रोटेक्शन ऑफ राइट्स ऑन मैरिज’ नाम दिया गया है. इसके तहत ‘तलाक-ए-बिद्दत’ को गैरकानूनी बताया गया है. फिर चाहे वह बोलकर दिया गया हो, ईमेल से दिया गया हो या एसएमएस-वॉट्सऐप से दिया गया हो.

गाजियाबाद के लोनी में निवासी सलीम ने अपनी पत्नी उम्मेदा को सिर्फ इसलिए तलाक दे दिया, क्योंकि उसने अपने मायके एक नमकीन का पैकेट भेज दिया था. पीड़िता के पिता के मुताबिक उनका दामाद बेटी को दहेज की मांग को लेकर प्रताड़ित करता था. वो आए दिन इस बात पर उसके साथ मारपीट करता था.

घटना के दिन सलीम मार्केट से दो नमकीन के पैकेट लेकर आया था. उसमें से एक उम्मेदा अपनी मां के घर दे आई थी. इस पर वो आग बबूला हो गया और उसने पत्नी के साथ मारपीट शुरू कर दी. उसका कहना था कि वह उसकी मर्जी के खिलाफ नमकीन का पैकेट अपने मायके में क्यों देने पहुंची. उम्मेदा ने बताया कि बस इसी मामूली बात को लेकर सलीम ने उसे तीन बार तलाक कह कर घर से निकाल दिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published.