National/International

कांग्रेस के पूर्व विधायक राजेश जैन ने 8 करोड़ रुपये के कालेधन को ठिकाने लगाया: ED

नई दिल्ली: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की जांच में पता चला है कि नोटबंदी के बाद कांग्रेस के एक पूर्व विधायक ने आठ करोड़ रुपये को कथित तौर पर ठिकाने लगाया और वकील रोहित टंडन तथा कुछ अन्य लोगों के साथ उसकी सांठगांठ थी.

पूर्व विधायक राजेश जैन को दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने नोटबंदी के बाद अवैध रूप से धन जमा करने के मामले में पिछले महीने गिरफ्तार किया था. ईडी अदालत से जल्द ही जैन की हिरासत की मांग करेगी और उनसे विस्तृत पूछताछ करेगी. वह फिलहाल न्यायिक हिरासत में हैं.

ईडी की एक रिपोर्ट के अनुसार जांच से पता चला है कि जैन और उनके बेटे प्रतीक ‘जय जैनेंद्र सेल्स’ और ‘श्रीनिवास सेल्स’ नामक कंपनियों के मालिक हैं तथा ‘नोटबंदी के दौरान इन कंपनियों को 8.71 करोड़ रुपये की राशि (8.56 करोड़ रुपये आरटीजीएस के जरिए और 15 लाख रुपये नकद) उन कंपनियों से मिली जहां नोटबंदी के बाद रोहित टंडन की नकदी जमा की गई थी.’

एजेंसी के सूत्राों ने कहा कि ‘पूरी साजिश का पर्दाफाश करने के लिए’ जैन से विस्तृत पूछताछ की जरूरत है.

ईडी ने मई महीने में जैन एवं कुछ अन्य लोगों के खिलाफ जांच के तहत जैन के दिल्ली स्थित परिसरों पर तलाशी ली थी. टंडन और कुछ अन्य लोगों को धनशोधन विरोधी कानून के तहत गिरफ्तार किया गया था.

पिछले साल पुलिस की अपराध शाखा ने टंडन, बैंक प्रबंधक आशीष, कमल जैन, दिनेश भोला, राजकुमार गोयल, आर सी शर्मा, योगेश मित्तल और जैन के खिलाफ जालसाजी और धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *