National/International

फ्लॉयड की मौत के मामले में पुलिस अफसर पर चला मुकदमा

मिनियापोलिस । मिनियापोलिस के जिस पुलिस अधिकारी ने अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की गर्दन को अपने घुटने से दबाया था, उस पर सोमवार को हत्या का मुकदमा चलाया गया और इस दौरान घटना का वीडियो भी दिखाया गया। अभियोजक जेरी ब्लैकवेल ने ज्यूरी के सदस्यों को पिछले साल मई में हुई घटना का वीडियो दिखाया और बताया कि नौ मिनट 29 सेकंड तक फ्लॉयड जमीन पर गिरा हुआ था तथा उसकी गर्दन पर पुलिस अधिकारी डेरेक चौविन ने अपना घुटना रखा था।
ब्लैकवेल ने कहा कि श्वेत पुलिस अधिकारी ने फ्लॉयड को हथकड़ी लगा रखी थी। उन्होंने कहा कि फ्लॉयड ने 27 बार बोला कि उसे सांस लेने में तकलीफ हो रही है, इसके बावजूद चौविन ने उसकी गर्दन पर से अपना घुटना नहीं हटाया। ब्लैकवेल ने कहा, उसने उसकी गर्दन और पीठ पर घुटना रखा था और जब तक उसकी सांस उखड़ नहीं गई, वह नहीं हटा। चौविन के वकील एरिक नेल्सन ने जवाबी दलील देते हुए कहा, डेरेक चौविन ने वही किया जो उसके 19 साल के करियर में सिखाया गया था।
एरिक नेल्सन ने कहा कि चौविन और उसके साथी पुलिस कर्मियों के आसपास घटना को देख रहे लोगों की भीड़ उग्र होती जा रही थी और फ्लॉयड पुलिस की कार में न बिठाए जाने के लिए संघर्ष कर रहा था। बचाव पक्ष के वकील ने यह भी कहा कि फ्लॉयड की मौत के चौविन जिम्मेदार नहीं है। नेल्सन ने कहा, इस अदालत में कोई राजनीतिक या सामाजिक मुद्दा नहीं है, लेकिन साक्ष्य नौ मिनट और 29 सेकंड के आगे भी हैं। हालांकि ब्लैकवेल ने इस तर्क को खारिज कर दिया कि फ्लॉयड ड्रग्स लेता था या किसी अन्य कारण से उसकी मौत हुई।
अभियोजक ने दलील दी कि फ्लॉयड की मौत पुलिस अधिकारी के घुटने से गर्दन दबाने के कारण हुई। इस बीच डोनाल्ड विलियम्स नामक एक प्रत्यक्षदर्शी ने अदालत में बयान दिया कि ऐसा प्रतीत हो रहा था कि चौविन ने फ्लॉयड की गर्दन पर दबाव बढ़ाने का कई बार प्रयास किया।
विलियम्स ने खुद को मार्शल आर्ट्स में प्रशिक्षित व्यक्ति बताया है। उसने कहा कि घटना के दौरान उसने पुलिस अधिकारी से चिल्लाकर कहा था कि वह फ्लॉयड की गर्दन पर नसों को दबा रहा है जिससे रक्त की आपूर्ति रुक सकती है। विलियम्स ने कहा कि फ्लॉयड को सांस लेने में तकलीफ हो रही थी और उसकी आवाज भारी होती जा रही थी तथा कुछ समय बाद उसके शरीर में हलचल होना बंद हो गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.