General Knowlage Health

कैंसर को खत्म करने में मददगार हो सकती है हल्दी: शोध

भारतीय मसालों में हल्दी एक महत्वपूर्ण मसाला है, जो आपको हर घर के किचन में मिल जाएगा। खाना बनाने के अलावा हल्दी का प्रयोग त्वचा का सौंदर्य बढ़ाने और घरेलू नुस्खों के लिए किया जाता है। आयुर्वेद में हल्दी का प्रयोग काफी पुराने समय से तमाम तरह के रोगों के इलाज के लिए किया जाता रहा है। मगर क्या आप जानते हैं कि हल्दी कैंसर को ठीक करने में भी सक्षम है? जी हां, हाल में हुए एक शोध में पता चला है कि हल्दी कैंसर को रोकती है और पेट के कैंसर को ठीक कर सकती है। ये शोध ब्राजील की ‘रिसर्चर्स फेडेरल यूनिवर्सिटी ऑफ साओ पाओलो’ (UNIFESP) और ‘फेडेरल यूनिवर्सिटी ऑफ पारा’ (UFPA) ने किया है।

हल्दी में कई तत्व हैं कैंसररोधी
हल्दी में मौजूद कर्क्युमिन नामक तत्व पेट के कैंसर को ठीक कर सकता है। इसके अलावा भी हल्दी में ऐसे बहुत सारे कंपाउंड होते हैं, जो शरीर को कैंसर से लड़ने में मददगार हो सकते हैं। कॉलिकैल्सिफेरोल (विटामिन डी का एक प्रकार), रेस्वेरेट्रोल (एक तरह का पॉलीफेनॉल) और क्वरसेटिन आदि ऐसे ही तत्व हैं। हल्दी में मौजूद इन्हीं तत्वों के कारण वैज्ञानिकों ने माना कि हल्दी कैंसर को ठीक करने और रोकने में सक्षम है।

हल्दी क्यों है फायदेमंद
हल्दी शरीर में हिस्टोन की गतिविधि को नियंत्रित करती है, इसलिए ये कैंसर सेल्स को बढ़ने से रोकती है। हिस्टोन एक तरह के प्रोटीन होते हैं, जो सेल न्यूक्लियाई में पाए जाते हैं। ये डीएनए को व्यवस्थित करते हैं। कैंसर का मुख्य कारण व्यक्ति के जीन में होने वाली गड़बड़ी है, जिससे डीएनए प्रभावित होता है। अगर आप रोजाना हल्दी का सेवन करते हैं, तो इससे आपके शरीर में कैंसर सेल्स के पैदा होने की संभावना काफी हद तक कम हो जाती है। हालांकि इसके लिए आपको संतुलित जीवनशैली अपनानी भी जरूरी है।

कैंसर के अलावा भी कई बीमारियों से बचाए हल्दी
हल्दी सिर्फ कैंसर ही नहीं, बल्कि शरीर की दूसरी बड़ी समस्याओं को भी दूर करने में सक्षम है। हल्दी में मौजूद कर्क्युमिन तत्व शरीर में अंदरूनी सूजन की समस्या को खत्म करता है। इसके अलावा ये कर्क्युमिन दिल की बीमारियों, अल्जाइमर, डिप्रेशन और अर्थराइटिस जैसी बीमारियों से भी आपके शरीर की रक्षा करता है। इसके अलावा ये आपके शरीर पर बढ़ती उम्र के प्रभाव को भी कम करता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *