Chhattisgarh

नक्सलियों को सम्मान और पुलिस कर्मियों को राजद्रोही कह रही सरकारः जोगी

छत्तीसगढ़ राज्य के लिए भाजपा सरकार की नीति और नीयत दोनों गंभीर नहीं है। एक तरफ सरकार खूंखार नक्सलियों को आत्मसमर्पण के नाम पर बुला-बुलाकर तोहफे देती है। बड़ा आयोजन करके उनका सम्मान किया जाता है। उन्हें नौकरियां दी जाती हैं। दूसरी तरफ, पुलिस कर्मियों और उनके परिजनों को राजद्रोह कहा जाता है। यह कहना है कि पूर्व मुख्यमंत्री और जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के अध्यक्ष अजीत जोगी का।

जोगी ने सोमवार को आंदोलनकारी पुलिस कर्मियों के परिवार के लिए संदेश जारी किया। उन्होंने कहा कि जब किसी राज्य में प्रशासन ही शासन से तंग आकर आंदोलन छेढ़ दे तो यह समझ लेना चाहिए कि वह राज्य बर्बादी की चरम पर पहुंच चुका है। उस राज्य में कुछ भी ठीक नहीं चल रहा। छत्तीसगढ़ में पुलिस कर्मियों का आंदोलन इसका जीवंत उदाहरण है। इसके लिए पूरी तरह से राज्य सरकार दोषी है।

आम जनता के साथ अब पुलिस भी भाजपा सरकार से त्रस्त हो चुकी है। जो समस्या बातों से सलुझ सकती थी, उसे दबाव और प्रताड़ना के बल पर सुलझाने का प्रयास किया। जोगी का आरोप है कि मुख्यमंत्री ने अब तक केवल अपने स्वार्थ के लिए पुलिस कर्मियों का दुरुपयोग किया है। उन्होंने न पुलिस रिफॉर्म्स पर ध्यान दिया और न ही पुलिस व जनता के बीच सामंजस्य बनाने का कोई काम किया। जोगी ने कहा कि उनकी पार्टी की सरकार बनी तो ‘खुश और चुस्त पुलिस’, ‘खुश और सुरक्षित जनता’ मॉडल लागू किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.