Chhattisgarh

पर्यावरण को ताक में रखकर बनाई जा रही है लाल ईट चंद पैसों के खातिर खेल रहे हैं पर्यावरण से खेल

भानुप्रताप साहू

सिकोसा :-सिकोसा से महज तीन कि मी दुर अवेध ईट भट्टा लाल ईट का निर्माण कर धनगाव के सरपच गोरी बाई निषाद के पति उत्तम निषाद जो लकडी का धन्धा करता हरे भरे पेड़ों का का धल्डे से कटाई कर रहा इस तरह पर्यावरण को भारी नुकसान पहुंचाते हुए खनिज माइनिंग का बकौल मजाक उड़ा रहा है एक जनप्रतिनिधि होने के नाते ऐसा करना क्या शोभा देता है नहीं देता पर ऐसा हो रहा है इससे स्पष्ट पता चलता है कि अधिकारी भ्रष्टाचार में लिप्त होकर इस तरह अवैध काम करने वालों को संरक्षण दे रहा है वरना अब तक ऐसे लोगों को छापामार कार्यवाही कर धर पकड़ लिया गया होता परंतु ऐसा नहीं कर रहा है कहीं ना कहीं जिला प्रशासन की खामी उजागर हो रही है अब इसे   क्या कहा जाए यह समझना अभी बाकी है पर्यावरण प्रेमी चिल्ला-चिल्लाकर थक गए हैं हजारों जगह शिकायत करने के बाद भी इस तरह लाल ईट बनाने वाले के ऊपर कभी कोई कार्यवाही नहीं हुई अब पर्यावरण प्रेमी कितने जगह शिकायत करें यह प्रशासन ही बताएं।

जिस तरह अंधाधुन पेड़ों की कटाई हो रही है इसे देख कर तो लगता है चंद दिन  में पूरा पेड़ ही ब्लॉक बालोद जिले  से खत्म ही हो जाएगा ईट भट्टे में जिस तरह खपाया जा रहा है कच्चे लकड़ी इससे स्पष्ट होता है की वन विभाग राजस्व विभाग और खनिज विभाग तीनों की लापरवाही है वन विभाग जाने से राजस्व का मामला बताता है राजस्व जाने से खनिज विभाग का मामला बताता है खनिज विभाग जाने से राजस्व का मामला बताता है ऐसे गोल-गोल घूम रहा है आखिर इन सवालों का जवाब देही कौन होगा आओ ऑफिस का पता लगाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.