Business

फॉक्सकॉन के चेयरमैन ने कहा- भारत में इस साल बड़े पैमाने पर आईफोन का प्रोडक्शन शुरू करेंगे

फॉक्सकॉन एपल की सबसे बड़ी असेंबलिंग फर्म, अब तक चीन में था फोकस
भारत में आईफोन बनाने से एपल को 20% इंपोर्ट ड्यूटी का फायदा होगा
महंगे होने की वजह से भारत में आईफोन की बिक्री कम, पिछले साल 17 लाख बिके

नई दिल्ली. दुनिया की सबसे बड़ी कॉन्ट्रैक्ट मैन्युफैक्चरिंग कंपनी फॉक्सकॉन टेक्नोलॉजी के चेयरमैन टेरी गो ने कहा है कि इस साल भारत में बड़े पैमाने पर आईफोन का प्रोडक्शन शुरू किया जाएगा। फॉक्सकॉन एपल के सबसे ज्यादा हैंडसेड असेंबल करता है। लंबे समय से उसका फोकस चीन में आईफोन बनाने पर रहा है।
आईफोन के नए मॉडल पर रहेगा फोकस: गो

गो के मुताबिक उनकी कंपनी भारत में कारोबारी विस्तार करना चाहती है। इसलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत आने का निमंत्रण दिया है। उन्होंने बताया कि एपल बेंगलुरु के प्लांट में कई सालों से पुराने फोन का प्रोडक्शन कर रही है। अब नए मॉडल ज्यादा बनाए जाएंगे।

आईफोन महंगा होने की वजह से भारत में एपल की बिक्री कम है। लेकिन, स्थानीय स्तर पर प्रोडक्शन शुरू करने से भारत में आईफोन सस्ता हो जाएगा क्योंकि 20% इंपोर्ट ड्यूटी नहीं लगेगी। 2018 में भारत में 17 लाख आईफोन की बिक्री हुई थी।

इसी महीने ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट में कहा गया था कि फॉक्सकॉन ने लेटेस्ट आईफोन का प्रोडक्शन ट्रायल शुरू करने की तैयारी कर ली है। चेन्नई के बाहरी इलाके में स्थित फैक्ट्री में बड़े स्तर पर असेंबलिंग शुरू करने की योजना भी है।

भारत दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ता स्मार्टफोन बाजार है। जबकि, चीन में बिक्री कम हो रही है। एपल को चीन में वहां की हुवावे और श्याओमी जैसी कंपनियों से टक्कर मिल रही है।

राष्ट्रपति चुनाव लड़ सकते हैं टेरी गो

गो ने ताइवान में एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि भविष्य में भारत की स्मार्टफोन इंडस्ट्री में हमारी अहम भूमिका होगी। उन्होंने सोमवार को ये भी कहा कि बड़ी रणनीति पर फोकस करने के लिए वो रोज के कामकाज से दूर रहेंगे। हालांकि, वो चेयरमैन पद से इस्तीफा नहीं देंगे। गो के विशेष सहायक लुइस वू ने यह बात स्पष्ट की। टेरी गो ने मंगलवार को संकेत दिए कि वो अगले साल होने वाले ताइवान के राष्ट्रपति के चुनाव में उम्मीदवार हो सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.